‘दुनिया को हाथ की तरह गर्म और सुंदर होना चाहिए’ केदारनाथ सिंह की उम्मीद की कवितायेँ

केदार जी की कवितायेँ हमारे देश की जमीन की कवितायेँ हैं जहाँ परम्परा-आधुनिकता, सुख-दुःख, गाँव-शहर, खेत और बाजार एक दूसरे से बतियाते नज़र आते हैं। जीवन की तमाम चुनौतियों में उम्मीद की खोज करती प्रस्तुत हैं केदारनाथ जी की दो कवितायेँ-

‘पाश’ की कविता ‘सबसे खतरनाक’!

9 सितंबर 1950 को पंजाब के जलंधर जिले के गाँव तलवंडी सलेम में सेवानिवृत्त मेजर सोहन सिंह संधू के घर एक बालक का जन्म हुआ। नाम रखा गया - अवतार सिंह। किशोरावस्था में पहुँचने तक अवतार सिंह ने सामाजिक तथा राजनितिक कार्यो में रूचि लेनी शुरू कर दी थी। इन्होने अपनी कलम के ज़रिये पुरे पंजाब में क्रांति फैला दी। और आगे चलकर अवतार सिंह संधू क्रांतिकारी पंजाबी कवी 'पाश' के नाम से मशहूर हो गए।