भारत की प्रख्यात महिला कहानीकार और उनके विचार !

सामाजिक कुव्यवस्था, निजी अनुभव, व्यक्तिगत बंधन तथा आत्मीय रिश्ते - ऐसी कई चीज़े है जो महिला लेखको को बाकी सब से अनूठा बनाती है। भारतीय लेखिकाओं के विषय मे यह बात विशेष तौर पर कही जा सकती है क्यूंकी यहाँ एक महिला कई तरह के सामाजिक एवं निजी भूमिकायें निभाती है। आइए देखे कि इन लेखिकाओं की लेखनी मे ऐसा क्या है जो इन्हे भीड़ से अलग करती है।