धनपतराय से ‘प्रेमचंद’ बनने का सफ़र !

मुंशी प्रेमचंद की कहानियाँ केवल कहानियाँ नहीं बल्की एक अलौकिक प्रकाश की भांति है जो हमारी सामाजिक एवं निजी भ्रांतियों के अँधेरे को मिटाने का प्रयास करती है। पर कैसे बनी ये कहानियाँ, क्या रहस्य है इन किरदारों के पीछे और कैसा था प्रेमचंद का जीवन? आज हिंदी के शेक्सपियर कहे जाने वाले इस महान लेखक के जन्मदिन पर खोजते है इन सभी प्रश्नों के उत्तर!

बिहार की इस महिला ने घर में शौचालय बनवाने के लिए गिरवी रखा अपना मंगलसूत्र !

बिहार के सासाराम में एक छोटे से गाँव बारहखन्ना की एक महिला ने शौचालय बनवाने के लिए अपना मंगलसूत्र गिरवी रख दिया। उनके इस जज्बे को देखकर जिला प्रशासन भी हरकत में आ गया और उनके इस कदम से प्रभावित होकर उन्हें जिले के स्वच्छता कार्यक्रम का ब्रांड एम्बेसडर बना दिया।