देहरादून में एक स्कूल के माध्यम से 1500 खास बच्चों की जिंदगी संवार रही है ये दो सहेलियां!

देहरादून में खास जरूरत वाले बच्चों को जिंदगी जीने का तरीका सिखाते दो दोस्त - जो म्क्गोवान और मंजू की कहानी| 1996 में मंजू सिंघानिया और जो म्क्गोवान चोपड़ा ने एक ख़ास स्कूल की शुरुआत की थी जो ख़ास जरूरत वाले बच्चों के लिए था| अपनी इन कोशिशों से वो अब तक 1500 से भी ज्यादा बच्चों की जिंदगी को बेहतर बना चुके हैं| हालांकि, शुरुआत में उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा, पर अब जा कर उनकी मुहिम रंग लाई है| उनके इस संघर्ष और प्रयासों को जानने के लिए पढ़े उनकी ये बेहतरीन दास्तां|

ATM की रौशनी में गरीब बच्चो को पढाता है ये सुरक्षाकर्मी !

माजरा, देहरादून के रहने वाले बिजेंदर एक ATM में सुरक्षाकर्मी के रूप में काम करते है। पर जैसे ही दिन ढलता है और सडको की बत्त्तियाँ जलती है तब बिजेंद्र जो करते है वो किसी को भी प्रोत्साहित करने के लिए काफी है।