एक अमरीकी जो भारत आकर भारत का ही बन गया और अब दुसरो को भी यहाँ आने के लिए प्रेरित कर रहा है

ट्रॉय अर्सटलिंग केवल ६ महीने के लिए भारत आये थे पर हमेशा के लिए यही के होकर रह रह गए। भारत को ही अपनी कर्मभूमि बनाकर इस अमरीकी ने न सिर्फ यहाँ एक कंपनी खोली बल्कि दुसरे विदेशी तथा प्रवासी भारतीयों को भी यहाँ वापस आने के लिए प्रेरित कर रहे है।