कॉमेडियन जाकिर खान के अपने पिता के बारे में कही इन बातों को सुनकर आप भी अपने पिता को याद करेंगे!

जब कभी एक बच्चे की परवरिश की बात आती है तो सबसे पहले माँ के बलिदानों की ही याद आती है। पिता का त्याग और सहयोग अधिकतर छुपा ही रह जाता है। ऐसा शायद इसलिए है क्यूंकि माँ अक्सर बच्चे के प्रति अपना प्यार ज़ाहिर कर देती है पर पिता अपने प्यार को व्यक्त नहीं कर पाते। पर उनकी डांट और कठोर अनुशासन के पीछे जो छुपा होता है वो है अपने बच्चो के लिए अपार स्नेह और उन्हें अपने से बेहतर बनाने का एकमात्र सपना!