पुरे गाँव की मदद से एक दिहाड़ी मजदूर के बेटे ने आइआइटी में पढाई की और आज है गूगल में इंजिनियर!

जब एक दिहाड़ी मजदूर के बेटे को भारत के प्रतिष्ठित संस्थानों में से एक भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान में प्रवेश का अवसर मिला तो कैसे पूरे कस्बे ने आगे आकार उनकी मदद की; और आज वह गूगल के सिएटल  स्थित कार्यालय में सॉफ्टवेयर इंजीनियर है।

अब स्थानीय भाषाओं में भी बन सकेगा ईमेल एड्रेस; हिन्दी से होगी शुरुआत।

भारत सरकार के इलेक्ट्रानिक और आईटी मंत्रालय द्वारा ईमेल एड्रेस को स्थानीय भाषाओं में बना पाने (जिसकी शुरूआत हिन्दी से होगी) के सन्दर्भ में एक बैठक आयोजित की गई, जिसमें आधुनिक टेक्नोलॉजी की दिग्गज कंपनियों में शुमार माइक्रोसॅाफ्ट , गूगल, रैडिफ के सदस्यों ने मिलकर इस सम्बन्ध में सकारात्मक निर्णय लिया।