‘बेटी बचाओ’ अभियान ने लगाया कुल्लू के दशहरे पर चार चाँद !

भारत में दो अवसरों पर लोगो की भीड़ एकत्रित होना अनिवार्य है - एक किसी भी उत्सव पर और दूसरा मतदान के मौके पर। इन दोनों ही मौको को 'बेटी बचाओ' अभियान से जोड़कर देश ने एक नया आदर्श स्थापित किया है। आईये देखे कैसे बना यह कीर्तिमान!