गाडगे बाबा के पदचिन्हों पर चलकर देश की सेवा कर रहे है चंद्रपुर के श्री. सुभाष शिंदे !

गरीब परिवार में जन्मे, सुभाष ने एक रात सपने में देखा कि वो एक सोनार बन गया है और गहनों की दूकान का मालिक है। अपनी लगन और मेहनत से उन्होंने ये मुकाम हासिल भी किया। पर उनकी पहचान इस सोने की दूकान से नहीं बल्कि उनके सोने जैसे दिल से बनी!