39 साल के इस युवक का आखरी सपना था कि इनके अंतिम संस्कार के पैसो से गरीबो के लिए घर बनाया जाएँ!

39 वर्षीय राज की कैंसर के कारण हाल ही में मृत्यु हो गयी। पर जाने से पहले उन्होंने खालसा ऐड इंटरनेशनल के साथ मिल कर एक मुहीम की शुरुआत की, जिसमे उन्होंने लोगो से उनके अंतिम संस्कार पर खर्च न करते हुए गरीबो की मदद के लिए पैसे दान करने की अपील की।

इंग्लैंड में अपनी ऐशो-आराम की ज़िन्दगी छोड़, भारत के गाँवों को बदल रहे है ये युवा दंपत्ति!

2014 में एक पति पत्नी का जोड़ा इंग्लैंड में अपनी ऐशो आराम की ज़िन्दगी छोड़कर भारत वापस आ गया। वापस आकर इन्होने न सिर्फ कई गाँवों को नशामुक्त कराया बल्कि अब एक गाँव के हर घर में शौचालय बनवाने की मुहीम में भी जुटे हुए है।