आर के नारायण के जन्मदिन पर पढ़िए उनकी अमर रचना ‘मालगुड़ी डेज’ हिंदी में!

इस महान लेखक की कहानियाँ अंग्रेजी में होने के कारण कही हिंदी पाठको को इससे वंचित न होना पड़े इसलिए श्री. महेंद्र कुलश्रेष्ठ ने इन्हें हिंदी में भी अनुवादित किया।