रामधारी सिंह दिनकर की कविता – ‘समर शेष है’ !

आज रामधारी सिंह दिनकर के जन्मदिन पर हम आपके लिए उनकी एक ऐसी कविता लाये है जो उन्होंने आजादी के ठीक सात वर्ष बाद लिखी थी। आज़ादी को 69 साल बीत गए। पर दिनकर की ये कविता मानो आज ही की लिखी हुई तस्वीर ज्ञात होती है। कविता का नाम है - 'समर शेष है'।