सचिन तेंदुलकर के जीवन से जुड़ी कुछ अनकही कहानियाँ!

यहां सचिन तेंदुलकर के बारे में छह छोटी-छोटी कहानियां और उपाख्यानों की एक लिस्ट है, जो कि फिल्म में हो सकते हैं। इनमें से सचिन की किस कहानी को आप स्क्रीन पर देखने के लिए उत्साहित होंगे?

विदेशी लेखकों, एक्टरों और राजनयिकों को आसान और मजेदार तरीकों से हिंदी सिखा रहीं पल्लवी सिंह

भाषा मानवीयता का पुल है, हमें जोड़ती है। वैश्वीकरण के इस दौर में हम दुनियां भर में आवास-प्रवास करते रहते हैं, हमारे देश में भी लाखों विदेशी आते हैं और उनकी मुहब्बत कहिए या कौतुहल कि उनमें से अधिकतर यहीं बस जाते हैं। ऐसे लोग हमेशा भाषा का अवरोध झेलते हुए देश में रहने के बाद भी अलग-थलग से नज़र आते हैं। इन्हें हमसे जोड़ने के लिए संवाद अनिवार्य है और संवाद के लिए समान भाषा जरूरी होती है।

दिल्ली के अखाड़े से लेकर ‘दंगल’ तक – महावीर सिंह फोगाट की कहानी!

इस साल की सबसे प्रतीक्षित फिल्म 'दंगल' के कुछ अंश देखकर ही दर्शको में खासा उत्साह है। और हो भी क्यूँ ना? हाल ही में साक्षी मलिक के रिओ ओलंपिक्स में फ्रीस्टाइल कुश्ती में पहला पदक जीतने के बाद, इस खेल में सभी की दिलचस्पी बढ़ गयी है। और जब कुश्ती की बात आती है तो हर भारतीय को उन छह बहनों की याद ज़रूर आती है जिन्होंने देश का नाम हमेशा उंचा किया है। ये छह बहने है गीता फोगाट, बबिता फोगाट, विनेश फोगाट, प्रियंका फोगाट, ऋतू फोगाट और संगीता फोगाट।

अगर आप पुरानी बॉलीवुड फिल्मो के दीवाने है तो ये विंटेज पोस्टर्स आपको खुश कर देंगे !

डिजिटल दुनिया की क्रांति से पहले शहरों और छोटे गावों में रंगीन, भड़कीले और हाथ से पेंट किये गये बॉलीवुड सिनेमा के पोस्टर्स हर जगह दिखाई देते थे। उस ज़माने में पोस्टर्स ही किफायती और कुशल विज्ञापन थे जिसे देखकर दर्शक सिनेमाघरों में खिचे चले आते थे।

हिन्दी फ़िल्मे जो भारत निर्माण में अभियंता (इंजिनियर) की भूमिका दर्शाते है!

भारतीय सिनेमा किसी ना किसी रूप मे हमारे समाज को भारत निर्माण के लिए प्रेरित का रहे इन इंजिनीयर्स के महत्वपूर्ण योगदान का उत्परेरक रहा है. भारत के इन्ही महान इंजिनीयर्स को समर्पित करते हुए, चलिए आज उन चार फ़िल्मो की चर्चा करे जो की इस बेहतरीन पेशे को रुपेहले पर्दे पर और बेहतरीन बनाने मे सफल रहे है.