15 जनवरी 1949 के दिन जनरल सर फ्रांसिस बुचर की जगह लेकर लेफ्टिनेंट जनरल के. एम्. कर्रिअप्पा भारतीय सेना के पहले कमांडर इन चीफ बन गए। इसी ऐतहासिक दिन की याद में हर साल 15 जनवरी को आर्मी डे के तौर पर मनाया जाता है।

जानिये देश के संरक्षक, भारतीय सेना के बारे में ऐसी 10 अद्भुत बातें, जिन्हें पढ़कर आपको अपने देश की सेना पर और ज्यादा फक्र होगा –

1.विश्व में सबसे बड़ा सैनिक आत्मसमर्पण करवाने का भारतीय सेना के नाम है!

1971 में हुए युद्ध में, 93000 पाकिस्तानी सैनिको के सामने आत्मसमर्पण किया था जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है।

pic 2

2. हिटलर भी लोहा मानते थे भारतीय सेना के गोरखा रेजिमेंट का!

pic 1

इतिहास में ये बात दर्ज है कि अडोल्फ़ हिटलर भारतीय सेना के गोरखा रेजिमेंट को हथियाने की इच्छा ज़ाहिर की थी। पुरे विश्व में गोरखा रेजिमेंट ही एक ऐसी टुकड़ी थी जो जर्मन सेना को टक्कर दे सकती थी। हिटलर का मानना था कि यदि ये टुकड़ी उनके साथ होती तो वो पुरे विश्व पे अपना कब्ज़ा कर सकते थे।

3. भारतीय सेना का निर्माण!

भारतीय सेना का निर्माण 1776 में ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा कोलकाता में किया गया था।

pic 3

4. विदेशी सेनाओं को प्रशिक्षण देती है भारतीय सेना!

pic 4

भारतीय सेना केवल अपने देश के जवानो को ही नहीं बल्कि विदेशी सेनाओं के जवानों को भी प्रशिक्षित करती है। इन सेनाओं में अमेरिका, इंग्लैंड और रूस जैसी सेनायें शामिल है। सेना के प्रशिक्षण केन्द्रों जैसे की देहरादून के भारतीय मिलिट्री अकादमी और मिजोरम के काउंटर- इन्सरजेंसी एंड जंगले वारफेयर स्कूल में इन विदेशी सेना दलों को प्रशिक्षण दिया जाता है।

 

5. भारतीय सेना ने किसी भी युद्ध में पहले दुश्मन पर वार नहीं किया!

pic 5

6. भारतीय सेना में आरक्षण नहीं है!

pic 6

भारतीय सेना में कभी भी जाती या धर्म के आधार पर जवानो का चयन नहीं किया जाता। इसमें भर्ती होने के लिए हर किसीको एक जैसी शारीरिक तथा मानसिक परीक्षाओं से गुज़ारना पड़ता है।

7. भारतीय सेना का सबसे पुराना रेजिमेंट

pic 7

‘राष्ट्रपति अंगरक्षक’ भारतीय सेना का सबसे पुराना रेजिमेंट है। इस रेजिमेंट का गठन 1776 में किया गया था।

8. भारतीय सेना ने बनाया है विश्व का सबसे उंचा पुल!

pic 8

बेली ब्रिज विश्व का सबसे ऊँचा पुल है। यह पुल लद्दाक में स्थित द्रास और सुरु नदियों के बीच हिमालय के ऊँचे पर्बत पर बना हुआ है। यांत्रिकी के इस अद्भुत नमूने को भारतीय सेना द्वारा अगस्त 1982 में बनाया गया है।

9. द्वितीय विश्व युद्ध के बाद , भारतीय सेना के सिपाही कमल राम को महज़ 19 साल की आयु में विक्टोरिया क्रॉस फॉर वेलोर का खिताब दिया गया। यह खिताब पानेवाले वे अब तक के सबसे कम उम्र के सिपाही है।

pic 9

10. बॉलीवुड की मशहूर फिल्म बॉर्डर लोगेवाला के युद्ध पर आधारित है। यह युद्ध भारत और पकिस्तान के बीच लड़ा गया था। इस युद्ध में 2000 पाकिस्तानी जवानो का केवल 120 भारतीय सिपाहियों ने डटकर मुकाबला किया था। इसके बावजूद इस युद्ध में भारत की जीत हुई थी।

pic 10

शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published.