भारत ने सोमवार को औपचारिक रूप से मिसाईल टेक्नोलॉजी कंट्रोल रेजिम (MTCR) की सदस्यता ग्रहण कर ली। विदेश सचिव एस.जयशंकर ने कागजी औपचारिकताएँ पूरी कर के भारत को MTCR में शामिल किया।

MTCR मिसाईल, रॉकेट सिस्टम, मानव रहित अंतरिक्ष यान, ड्रोन के अलावा मास डिस्ट्रक्शन के हथियारों के प्रसार पर नियंत्रण रखता है।

न्यूकलियर सप्लाई ग्रुप में जगह न मिलने से निराश भारत के लिए ये एक बड़ी उपलब्धि है।

MTCR में शामिल हो जाने से भारत को अपने मिसाइल और स्पेस कार्यक्रमों के लिए तकनीकी सहायता आसानी से मिल सकेगी।

Agni-V_missile

 

Photo source – Wikipedia

MTCR में शामिल होने से भारत को स्टेट ऑफ आर्ट तकनीक उपलब्ध हो सकेगी। भारत अपने परंपरागत साथी रूस, फ्रांस, संयुक्त राष्ट्र सहित अन्य सदस्य देशों से तकनीक के लिए साझेदारी कर सकता है।

बाजपेयी सरकार के समय से ही भारत MTCR की सदस्यता पाने की कोशिश कर रहा था। भारत के शामिल होने के बाद MTCR  में कुल 35 सदस्य हो गए हैं। अब तक चीन भी MTCR का सदस्य नहीं बन सका है।

भारत की इस उपलब्धि पर सभी देशवासियों को बधाई !

featured image source

 

यदि आपको ये कहानी पसंद आई हो या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें [email protected] पर लिखे, या Facebook और Twitter (@thebetterindia) पर संपर्क करे।

शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published.