मिलिए पत्रकार से किसान बने गिरीन्द्रनाथ झा से, जो अब अपने गाँव को नयी पहचान दे रहे है!

एक पत्रकार, एक लेखक, इन्टरनेट की दुनियां का एक जाना माना नाम आखिर क्यूँ एक किसान बन गया? ये कहानी है चनका, बिहार के लेखक किसान, गिरीन्द्रनाथ झा की।

4 सर्जरी और 500 स्टिचस के बाद भी, ये प्रेरक नेवी ऑफिसर हैं वापसी को तैयार।

मौत का सामना करा देने वाली दुर्घटनाओं से गुजरना हमेशा ही एक बुरे सपने की तरह होता है। बिनय कुमार, एक पूर्व नेवी ऑफिसर ने भी ऐसी ही एक दुर्घटना का सामना किया लेकिन, उन्होंने हार नहीं मानी और अपने इसी शानदार जज्बे के चलते अब वो वापसी को तैयार है।

मुंबई के 300 छात्रों ने 2 साल तक हर रविवार साथ मिलकर काम किया और इस गाँव में बना दिये 107 शौचालय।

मुंबई के किशिनचंद चेलारम महाविद्यालय के छात्रो ने सभी को प्रभावित करते हुये पलघर जिले के कारवाले गाँव में 107 शौचालय निर्मित किए हैं जिसमें गाँव में रह रहे हर परिवार के लिए एक शौचालय है।

देशप्रेम के चलते आँगनबाड़ी में काम करने वाली माँ के इस लाल ने छोड़ी TCS कि मोटी तनख्वाह वाली नौकरी, सेना में हुआ भर्ती।

बढ़िया वेतन और सुख सुविधाओं से युक्त जीवन जी रहे भारत दरबार सिंह जाधव टीसीएस में सिस्टम इंजीनियर के रूप मे कार्यरत थे। पर महाराष्ट्र के बुलढाना जिले के एक छोटे से गाँव में आंगनबाड़ी सहायिका के इस बेटे के भीतर कुछ और हासिल करने का जज़्बा पनप रहा था, उनका मुक़ाम था सेना मे शामिल होकर अपने देश कि सेवा करना।

अपना अपार्टमेंट ब्रेन रिसर्च के लिए दान कर, शर्वरी गोखले मृत्यु के बाद भी याद रखी जाएगी!

शर्वरी गोखले —1974 बैच की आईएएस अफसर और मुंबई की पहली महिला कलेक्टर थी। पिछले साल, कैंसर की वजह से उनकी मृत्यु हो गई लेकिन शर्वरी ने मृत्यु - पूर्व ही अपना अपार्टमेंट "सेंटर फॉर ब्रेन रिसर्च" के नाम कर दिया था। ताकि उनकी संपत्ति देश के काम आ सके।

जानिये कैसे आईआईटी के प्रोफ़ेसरो की मदद से 5 मिनट से भी कम समय में बन रहा है रेल्वे का टाइमटेबल!

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलोजी, मुंबई (IIT-B) के प्रोफ़ेसर की टीम ने सेंट्रल रेल्वे के साथ मिलकर ऐसी ऐल्गोरिदम तैयार की है, जिससे यह टाइम टेबल तैयार करने में लगने वाला 14 सप्ताह का समय घटकर 5 मिनट हो गया है।

सरकार को नोटबंदी का सुझाव देने वाले बोकिल अब कर रहे हैं टैक्स बंदी का दावा!

अनिल बोकिल ने अब दावा किया है कि सरकार जल्द ही उनके दुसरे सुझाव को भी अपनाएगी और बाकी सभी करो को खारिज कर केवल बैंकिंग ट्रांजेक्षण टैक्स (बीटीटी) यानी की बैंक में किये आदान प्रदान पर कर जारी करेगी।

बिना मिट्टी के खेती की इस अनोखी तकनीक से संकट से उबर सकते है किसान!

कनिका ने क्लेवर बड की स्थापना की है, जो खेती करने के ऐसे तरीके पर काम करती है, जिससे न सिर्फ फसलों की गुणवत्ता अच्छी होती है, बल्कि फसलें कहीं भी कभी भी आसानी से उगाई जा सकती हैं और वो भी बिना कीटनाशक दवाइयों के प्रयोग के। इतना ही नहीं फसलें बिना मिट्टी के भी उगाई जा सकती हैं।

इस दंपत्ति के प्रयासों से सड़को पर भीख मांगने वाले बच्चे आज विदेश में पढ़ रहे हैं!

चेन्नई के एक दंपत्ति, उमा एवं मुथूराम, द्वारा संचालित संस्था 'सुयम चेरीटेबल ट्रस्ट' एक एनजीओ है जो सड़कों और गलियों में रहने वाले गरीब परिवारों को पुनर्वासित करने में जुटी हुई हैं। इनके प्रयासों से गरीब और भीख माँगने वाले बच्चे भी विदेशों और प्रतिष्ठित संस्थानों में शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। चेन्नई के एक दंपत्ति, उमा एवं मुथूराम, द्वारा संचालित संस्था 'सुयम चेरीटेबल ट्रस्ट' एक एनजीओ है जो सड़कों और गलियों में रहने वाले गरीब परिवारों को पुनर्वासित करने में जुटी हुई हैं। इनके प्रयासों से गरीब और भीख माँगने वाले बच्चे भी विदेशों और प्रतिष्ठित संस्थानों में शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं।

एक अनजाने फोन को सुनकर ये युवा पहुंचे 2 महीने से भूखी वृद्धा के पास; आज वह पूर्णरूप से स्वस्थ है।

चरन जिन्हें उनकी सोशल मीडिया प्रोफ़ाइल ‘हेल्पिंग फोर्स फ़ाउंडेशन’ के अध्यक्ष और स्थापक के रूप में वर्णित करती है, जो आंध्र के विजियांगरम में जरूरतमंदों की मदद करता है, ने एक अनजान कॉल पर कार्यवाही करते हुये तुरन्त स्थल पर पहुँच कर उन महिला को कुपोषण स्थिति में पाया।

एसिड अटैक फाइटर्स द्वारा चलाये जा रहे शीरोज़ हैंगआउट को मिला नारी शक्ति पुरस्कार!

छांव फाउंडेशन को शीरोज हैंगआउट के लिये राष्ट्रपति द्वारा नारी शक्ति पुरस्कार दिया गया। शीरोज हैंगआउट, कैफे श्रृंखला है जो एसिड अटैक फाइटर्स के द्वारा संचालित की जाती है। 15 साल की उम्र में सौतेली मां के द्वारा एसिड हमले का शिकार हुईं रूपा ने शीरोज हैंगआउट की ओर से यह पुरस्कार ग्रहण किया।

मिलिए झारखंड के एक ऐसे व्यक्ति से जिसने जुहू तट पर अब तक 50 जानें बचाई है!

बंटी राव, जुहू तट पर तैनात एक स्वयंसेवक लाइफ गार्ड है जो किसी भी आपात की स्थिति में आपकी मदद को तैयार रहता है ।

‘मुझे सामान की तरह उठाया गया’- एक दिव्यांग अधिकार कार्यकर्ता की आपबीती से उठी सुविधाजनक रेलवे की मांग!

विराली दिव्यांग अधिकारों की सशक्त कार्यकर्ता हैं। वे लेखिका और अभिनेत्री होने के साथ साथ 2014 की मिस व्हीलचेयर रनर-अप भी रही हैं। उन्हें भारतीय रेलवे के साथ कई बार संघर्ष करना पड़ा, जहां उन्हें दिव्यांग होने की वजह से मजबूरी में पुरुषों द्वारा उठाया गया। विराली अपने साथ घटी इन घटनाओं को बन्द करवाना चाहती हैं।

डम्पिंग यार्ड से एक हरे-भरे पार्क के रूप में, माहिम नेचर पार्क का शानदार रूपान्तरण!

धारावी बस डीपो के पास स्थित माहिम नेचर पार्क कभी एक डम्पिंग यार्ड हुआ करता था, जहां पूरे मुंबई शहर से ला कर रोज़ सैकड़ो टन कचरा डाला जाता था। 1977 में प्रशासन द्वारा इसका उपयोग बंद कर दिये जाने पर तीन लोगों ने इसके स्वरूप को बदलने की ठानी और आज यह मुंबई शहर में प्रकृति प्रेमियो का पसंदीदा स्थान बन गया है।

पेशे से सीए रह चुकी देविका, पशुओं के संरक्षण के लिए बना रही है चमड़ा-मुक्त जूते!

पशुओं के प्रति प्रेमभाव रखने वाली देविका ने जब भारत में चमड़े और कैनवस जूतो के बीच की खाई को देखा तो उन्होने अपना पेशा छोड़ हमे चमड़े की जगह एक बेहतर उत्पाद उपलब्ध कराने की ठानी और अपना खुद का एक  ब्रांड स्थापित किया।