कॉमेडियन जाकिर खान के अपने पिता के बारे में कही इन बातों को सुनकर आप भी अपने पिता को याद करेंगे!

जब कभी एक बच्चे की परवरिश की बात आती है तो सबसे पहले माँ के बलिदानों की ही याद आती है। पिता का त्याग और सहयोग अधिकतर छुपा ही रह जाता है। ऐसा शायद इसलिए है क्यूंकि माँ अक्सर बच्चे के प्रति अपना प्यार ज़ाहिर कर देती है पर पिता अपने प्यार को व्यक्त नहीं कर पाते। पर उनकी डांट और कठोर अनुशासन के पीछे जो छुपा होता है वो है अपने बच्चो के लिए अपार स्नेह और उन्हें अपने से बेहतर बनाने का एकमात्र सपना!

शिमला पुलिस के इन बहादुर अफसरों ने बर्फ में दस किमी पैदल चलकर गर्भवती महिला को अस्पताल पहुँचाया!

आमतौर पर पुलिस वालो से हम डरते ही है। ज़्यादातर पुलिस वालो के बारे में हम कोई अच्छी राय भी नहीं रखते। पर शिमला पुलिस ने हाल ही में कुछ ऐसा कर दिखाया है जिसके बारे में जानकार आपका रवैया पुलिस के प्रति बिलकुल बदल जायेगा।

शादी में दहेज़ न लेकर, पहलवान योगेश्वर दत्त ने कायम की युवाओं के लिए एक मिसाल!

भले ही भारत के पहलवान, योगेश्वर दत्त ओलिंपिक में स्वर्ण पदक जीतने से चूक गए हो पर अपनी शादी में दहेज़ न लेने का ऐलान कर के उन्होंने ये साबित कर दिया कि उनका दिल सोने का है।

भारतीय सेना से जुडी कुछ बातें, जिन्हें पढ़कर आप गौरवांवित महसूस करेंगे।

15 जनवरी 1949 के दिन जनरल सर फ्रांसिस बुचर की जगह लेकर लेफ्टिनेंट जनरल के. एम्. कर्रिअप्पा भारतीय सेना के पहले कमांडर इन चीफ बन गए। इसी ऐतहासिक दिन की याद में हर साल 15 जनवरी को आर्मी डे के तौर पर मनाया जाता है।

स्वच्छता का वादा और औरतों का साम्मान करने पर मुफ्त सवारी करवाते है नॉएडा के ये ऑटोचालक!

देश में स्वच्छता मिशन की लहर पिछले दो सालो से काफी तेजी से फैला है। ऐसे में कई नागरिक ऐसे है जो अपने छोटे-छोटे कदमो से देश को स्वच्छ बनाने की मुहीम में जुट गए है। इनमे से एक नॉएडा के ऑटो चालक सचिन शर्मा भी है। इन्होने देश को स्वच्छ बनाने का सन्देश लोगो तक पहुंचाने का एक अनोखा तरीका ढूंड निकाला है। नए साल की शुरुआत उन्होंने अपने यात्रियों को रात 12 बजे और सुबह 4 बजे के बीच मुफ्त में उनकी मंजिल तक पहुंचा कर की। पर शर्त ये थी कि यात्रियों को उनसे ये वादा करना था कि वे देश को स्वच्छ बनाने में अपना योगदान देंगे।

एक और महावीर और गीता – मिलिए कुश्ती में लडको को पछाड़ने वाली महिमा राठोड से!

हाल ही में रिलीज़ हुई दंगल फिल्म को देखकर हम सभी भावुक हुए, पर 16 साल की महिमा जब ये फिल्म अपने पिता के साथ देखने गयी तो उसके आंसू रोके नहीं रुक रहे थे। कारण था फिल्म में दिखाए महावीर सिंह फोगाट का अपनी बेटियों के लिए किया गया संघर्ष जो की हु-ब-हु महिमा के पिता राजू राठोड की कहानी से मिलती जुलती है।

[विडिओ] : भारत का ख़त आया है…क्या आप पढेंगे?

भारत... हमारा प्यारा देश! सोचिये यदि हमारा देश एक व्यक्ति के रूप में बदलकर हमसे कुछ कहना चाहता तो क्या कहता? या फिर जिस देश में हम ख़ुशी से रहते है, यहाँ के वासी होने पर गर्व महसूस करते है, कभी इसका गुनगान करते है और कभी कोंसते है, वो देश, हमारा भारत हमारे बारे में क्या सोचता होगा? अगर भारत को मौका मिले तो वो हमे कैसा ख़त भेजेगा? आईये जानते है आगाज़ क्रिएशन द्वारा निर्मित इस शोर्ट फिल्म में कि भारत ने ख़त में आपको क्या लिखा है!

स्वामी विवेकानंद के 10 प्रेरणादायक विचार जो आपको जीने की नयी राह देंगे!

आज भी, जब भारत का अधिकांश युवावर्ग नौकरी करने में नहीं बल्कि अपना कोई व्यवसाय शुरू करने में ज्यादा दिलचस्पी दिखा रहा है तब स्वामी विवेकानंद के विचार उन्हें सही रास्ता दिखने में बहुत सहायक हो सकते है।

फोगाट बहनों के बाद हरियाणा की इन तीन बहनों ने सेना में भर्ती होकर खड़ी की एक नयी मिसाल!

जिस तरह महावीर सिंह फोगाट ने धकियानुसी परंपराओं को ताक पर रखकर अपनी बेटियों तथा भतीजियों को पहली बार अखाड़े में भेजा था उसी तरह झज्जर के खेड़का गुर्जर गांव के किसान प्रताप सिंह देशवाल ने भी अपनी बेटी प्रीती और दीप्ती तथा अपनी भतीजी ममता को सेना में भेजा है।

अकेली रह रही बुज़ुर्ग महिला का जन्मदिन मनाकर मुंबई पुलिस ने सबका दिल जीता!

ललिता के 83वें जन्मदिन पर मुंबई पुलिस केक लेकर उनके घर पहुँच गयी और उनके जन्मदिन का जश्न उनके साथ मना कर उन्हें चकित कर दिया।

अनाथालयो की बच्चियों को ‘दंगल’ दिखाने के लिए पूरा सिनेमाघर बुक किया इंदौर के डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर ने!

हमारे देश में एक तपका ऐसा भी है जिन्हें न खबरे देखने की फुर्सत है और न फिल्मे देखने की सहूलियत। फिर इन लड़कियों को कुछ बनने की प्रेरणा कैसे मिलती? इसका एक सरल सा उपाय ढूंड निकाला इंदौर के डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर पी नरहरी ने। उन्होंने 250 ऐसी लड़कियों को 'दंगल' फिल्म दिखाई, जो काफी गरीब घर से थी।

बेटी को खोने के बाद भी, पकिस्तान से इस पिता ने भेजा था भारत को प्यार भरा ख़त!

पकिस्तान से भारत अपना इलाज कराने आई 13 साल की अबीहा ने 7 मई 2015 को दिल्ली के अपोलो अस्पताल में दम तोड़ दिया। पर जाने से पहले वो भारत से सिर्फ प्यार और अपनापन लेकर गयी और यही प्यार उसने भारत को भी दिया। पकिस्तान लौटकर अबीहा के पिता, इमरान ने भारत के नाम एक धन्यवाद पत्र लिखा।

2016 में हुई 6 घटनाएं जिन पर हर भारतीय को सदा गर्व रहेगा!

2016 ने हमे ऐसे कई ऐतेहासिक क्षण दिए जिनकी वजह से भारत के हर नागरिक को भारतीय कहलाने पर गर्व महसूस हुआ। आईये फिर एक बार याद करते है उन्ही सुखद क्षणों को!

इस महिला ने व्हाट्स अप पर इनकी अश्लील अफवाह फैलाने वाले से अनाथ आश्रम में रु.25000 दान करवाया

श्रीलक्ष्मी के इस जानने वाले ने उनका फ़ोन नंबर व्हाट्स अप पर साझा करते हुए साथ में लिखा था कि 'ये उपलब्ध है' और उन्हें 'सुपर आइटम' लिखकर संबोधित किया था। इसके बाद श्रीलक्ष्मी को अनजान लोगो के कॉल आने शुरू हो गए।

एसिड पीड़िता ने अपने नए जीवन की शुरुआत की तो पूरे सोशल मीडिया ने दिया उनका साथ!

हाल ही में हुमंस ऑफ़ इंडिया नामक एक फेसबुक पेज पर एक नवविवाहिता की तस्वीर सामने आई, जो प्यार की परिभाषा नए सिरे से लिख रही है।